अनियंत्रित बस डिवाइडर से टकराई, एक महिला की मौत

नेशनल हाइवे पर मोहदियापुर के निकट डबल डेकर प्राइवेट बस अनियंत्रित होकर डिवाइडर से टकरा कर खाई में जा गिरी जिसमें एक महिला की मौके पर ही मौत हो गई । पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए जिला मुख्यालय भेज दिया । बुधवार सुबह लगभग चार बजे सवारियों से भरी दिल्ली से लहरपुर (सीतापुर) जा रहीं डबल डेकर बस संख्या UP 22 T 9587 उचौलिया के आगे मोहदियापुर के निकट डिवाइडर से टकराकर गहरी खाईं में पलट गयीं । बस में सवार दिल्ली में बेलदारी का काम करने वाले रमेश ने बताया कि मैं रमेश पुत्र श्रीराम, मेरी पत्नी लक्ष्मी, पुत्र राम 3 वर्ष, पुत्री खुशबु डेढ़ वर्ष और मां मधु 60 वर्ष पत्नी श्रीराम के साथ दिल्ली में रहता हूँ, घर से फोन द्वारा सूचना मिली कि पिता श्री राम की हालत खराब है जिन्हें देखने के लिए पूरे परिवार के साथ गांव सैदीपुर बिसवा थाना तालगावं जिला सीतापुर जा रहे थे कि मोहदियापुर के निकट बस अनियंत्रित होकर खायी में पलट गयीं जिसमें रमेश की माँ मधु 60 वर्ष की मौके पर ही मौत हो गई तथा शकील अहमद निवासी खैराबाद, असलम, जैनुल, मोहम्मद समी, मोहम्मद शरीफ निवासी गण कस्बा लहरपुर जिला सीतापुर आदि घायल हो गए । सभी सवारियों को पुलिस ने दूसरी बसों और अन्य वाहनों से अपने अपने गंतव्य को भेज दिया । सूचना मिलने पर उचौलिया पुलिस चौकी प्रभारी हर्षित कुमार सिंह दल बल के साथ मौके पर पहुंचे और ड्राइवर अब्दुल पुत्र इन्तजार निवासी मसूदपुर थाना मंसूरी जिला गाजियाबाद व हेल्पर गुलशेर पुत्र गुलफाम निवासी वैट थाना संभल जिला हापुड को पुलिस ने कस्टडी में ले लिया और जेसीबी मशीन द्वारा बस को उठा कर शव को बाहर निकाला जिसको पोस्टमार्टम के लिए जिला मुख्यालय भेज दिया । विदित हो पिछले कई वर्षों से लहरपुर, पिहानी, मितौली, मोहम्मदी, पिसावां आदि स्थानों से दर्जनों डग्गामार बसे रोजाना दिल्ली जाती हैं और उधर से वापस आती हैं । सूत्र बताते हैं कि इन बसों में खासकर व्यापारियों को विशेष लाभ होता है क्योंकि वे नम्बर दो का सामान लाते हैं जिससे सरकार को खासी राजस्व हानि होती है । इन बसों से आये दिन घटनाएं होती रहती हैं । गत वर्ष आरटीओ की चेकिंग से बचने के लिए एक बस चालक ने सवारियों से भरी बस खेतों में भगा दी थी जिससे बस बिजली के तारों से टच हो गयी थी और उसमें आग लग गयी थी जिसमे दैवीय कृपा से कोई जनहानि नहीं हुई । पिछले वर्ष ही एक दिन आरटीओ ने एक ही दिन में मात्र कुछ घण्टे चेकिंग करके 11 बसें सीज की थीं जिससे कई दिनों तक ये डग्गामार बसे बन्द रहीं लेकिन कुछ ही दिनों बाद फिर शुरू हो गईं । समाचार पत्रों में भी कई बार इन बसों के सम्बंध में समाचार छापे जा चुके हैं लेकिन ये बसें लोगों के जीवन से खिलवाड़ करने से नहीं चूकतीं । बस चालक परिचालको का कहना है कि सभी जगह महीना बंधा हुआ है इसलिए पुलिस व परिवहन विभाग हमारा कुछ नहीं कर सकता ।

X

सर्कल लखीमपुर खीरी
अपने शहर का अपना ऐप

धौरहरा, निघासन, मोहम्मदी, गोला गोकर्णनाथ… की हर खबर, वीडियो और भी बहुत कुछ! 👉

लखीमपुर खीरी में 20000 से भी ज्यादा लोग हैं इस ऐप पर, आप भी इस सर्कल का हिस्सा बनें 👉

सर्कल ऐप
इंस्टॉल करें