धूमधाम से निर्धारित समय पर हुआ नौचंदी मेले का उद्घाटन

This browser does not support the video element.

मेरठ में पिछली कई सदियों से लगते आ रहे हिंदू मुस्लिम एकता के प्रतीक नौचंदी मेले का उद्घाटन रविवार को धूमधाम के साथ हुआ। हालांकि अधिकारियों का कहना है कि यह अधिकारिक उद्घाटन नहीं है, सिर्फ सदियों से चली आ रही परंपरा को बचाने के लिए औपचारिक उद्घाटन किया गया है। मगर यह भी सच है कि चाहे जो भी हुआ मगर आदर्श चुनाव आचार संहिता मां दुर्गा की राह में रोड़ा नहीं अटका सकी। बताते चलें कि सदियों से मेरठ के नौचंदी मैदान में अप्रैल माह में नौचंदी मेला लगता रहा है। हिंदू मुस्लिम एकता के प्रतीक इस मेले का शुभारंभ नव चंडी मंदिर में छत्र और चुनरी चढ़ाकर और बाले मियां की मजार पर चादर चढ़ाकर किया जाता रहा है। पुरानी परंपरा के अनुसार हर साल मेले का उद्घाटन होली से दूसरे रविवार किया जाता रहा है। लेकिन इस बार जिले में चुनाव आचार संहिता लागू होने के कारण यह पुरानी परंपरा टूटती दिखाई दे रही थी। क्योंकि इस वर्ष मेले का आयोजन जिला पंचायत के हाथ में था। इसलिए जिला पंचायत अध्यक्ष कुलविंदर सिंह ने पुरानी परंपरा को बचाने के लिए अधिकारियों से समय पर ही मेले का उद्घाटन किए जाने की मांग की थी। मान्यताओं को ध्यान में रखते हुए रविवार की शाम मंडलायुक्त अनिता सी मेश्राम और जिलाधिकारी अनिल धींगरा ने विधिवत रूप से मेले का उद्घाटन किया। लाव लश्कर के साथ मेला स्थल पर पहुंचे दोनों अधिकारियों ने पहले नवचंडी मंदिर में पूजा अर्चना करते हुए देवी मां की प्रतिमा पर छत्र और चुनरी चढ़ाई। इसके बाद बाले मियां की मजार पर चादर चढ़ाते हुए दुआ मांगी। हालांकि अधिकारियों ने यह स्पष्ट किया कि मेले का अधिकारिक रूप से उद्घाटन नहीं किया गया है। सिर्फ पुरानी परंपरा के अनुसार दोनों धार्मिक स्थलों पर हर वर्ष होने वाले कार्यक्रम समय के अनुसार किए गए हैं।

X

सर्कल मेरठ
अपने शहर का अपना ऐप

मवाना, सदर, सरधना, मेरठ... की हर खबर, वीडियो और भी बहुत कुछ! 👉

मेरठ में 4000 से भी ज्यादा लोग हैं इस ऐप पर, आप भी इस सर्कल का हिस्सा बनें 👉

सर्कल ऐप
इंस्टॉल करें