कलवारी में आठ वर्षों बाद भी शोपीस बनकर रह गई लाखों की लगत से बनी पानी की टंकी 

केंद्र व प्रदेश की सरकार ने शहरों की तरह गांवों में भी पेयजल उपलब्ध कराने के लिए पानी की टंकी का निर्माण कराया था। जिसके क्रम में बस्ती जनपद के बहादुरपुर ब्लाक की सबसे बड़ी ग्राम पंचायत कलवारी मुस्तहकम में वर्ष 2009-10 में ग्राम पंचायत पेयजल योजना के तहत 125.695 लाख रुपये की लागत से 350 किलो लीटर की क्षमता की टंकी का निर्माण कराया गया। 21.360 किलोमीटर पाइप लाइन बिछाया जाना था। कार्यदायी संस्था जल निगम ने टंकी तो बना दी पर पाइप लाइन का कार्य आज तक पूरा नहीं किया गया। जिससे यह टंकी ग्राम पंचायत को हैंडओवर नहीं हुई। टंकी का ट्रायल भी हो चुका है लेकिन जलापूर्ति शुरू नहीं हो सकी है।           इस टंकी से ग्राम पंचायत कलवारी मुस्तहकम के गांव भटपुरवा, बिचऊपुर, बगियापार, गोविंदापुर आंशिक, चनगहिया मठियवा, सोनकर पुरवा में पाइप लाइन के माध्यम से पेयजल पहुंचाने की योजना है। ग्रामीणों द्वारा काम पूरा करा कर टंकी चालू कराने की कई बार मांग की जा चुकी है लेकिन जिम्मेदार इस पर ध्यान नहीं दे रहे हैं। कुछ दिनों पहले पूर्व भाजपा नेताओं ने गांव में चौपाल का आयोजन किया था। जिसमें गांव के लोगों ने पानी की टंकी का मुद्दा उठाया था। उस समय जल निगम के जेई अभिनव सामंत ने बताया कि सड़क का निर्माण होने से पानी की सप्लाई नहीं हो पा रही है। शीघ्र ही टंकी चालू कराने का प्रयास किया जाएगा। जबकि अब तक इस टंकी को चालू कराने की कोई पहल नहीं हुई।         ग्रामीणों का कहना है कि सात साल पूर्व गांव में पानी की टंकी बनने का कार्य शुरू हुआ था। आज भी पाइप लाइन का कार्य पूरा न होने के कारण यहां से संबद्ध गांवों को पानी नहीं मिल पा रहा है। विभागीय उदासीनता के चलते यह परियोजना ठप है।

X

सर्कल बस्ती
अपने शहर का अपना ऐप

बस्ती, भानपुर, रुधौली, सदर, हरैया... की हर खबर, वीडियो और भी बहुत कुछ! 👉

बस्ती में 6000 से भी ज्यादा लोग हैं इस ऐप पर, आप भी इस सर्कल का हिस्सा बनें 👉

सर्कल ऐप
इंस्टॉल करें