शान्तिकुंज से पधारी टोली का अक्षत पुष्प वर्षा व भीगी पलकों के साथ विदाई के साथ

पांच दिवसीय 51 कुंडीय शक्ति संवर्धन गायत्री महायज्ञ के पाँचवे दिन यज्ञशाला में स्थित 51 कुंडो पर हजारों लोगों ने यज्ञ की महपूर्णाहूति में अपनी भाव पूर्ण आहुतियां डाली। 22 परिजनों ने गुरु दीक्षा , 10 महिलाओं ने पुंसवन संस्कार कराए। प्रेम जी बिरला ने अपने संगीत की टीम के साथ प्रज्ञा गीत सुनकर उपस्थित लोगों के हृदय में श्रद्धा का उफान पैदा कर दिया। टोली नायक देवता प्रसाद शर्मा जी ने यज्ञ में पधारी देव शक्तियों का मंत्रोच्चार के साथ भाव भारी विदाई दिया। उन्होंने कहा कि यज्ञ प्रत्येक घरों में होना चाहिए । यज्ञ करने से बच्चों के अंदर अच्छे संस्कार आते हैं। परिवार में सुसंस्कारिता का वातावरण होता है। नशा आदि से दूर रहने की प्रेरणा भी यज्ञ से ही मिलती है। सकारात्मक विचार हमारे जेहन में समा जाते हैं। उन्होंने कहा कि ये 5 दिनों का भव्य कार्यक्रम हम सभी के अंदर सकारात्मकता को पैदा करने के लिए किया गया था। इसके माध्यम से दिलो के भावनात्मक तार गहराई से जुड़ गए हैं। 33 कोटि देवताओ को यज्ञ के अंतिम दिन विदाई दी गयी। कार्यक्रम संयोजक श्री अशोक कुमार गुप्ता ने इस आयोजन को सफल बनाने में सभी कार्यकर्ताओं का विशेष आभार व्यक्त किया। इस कार्यक्रम को सफल बनाने में बलरामपुर सहित तुलसीपुर, गैसड़ी व पचपेड़वा के कार्यकर्ताओं का विशेष योगदान रहा। जिसमें राम दुलारी, विद्यावती, माधुरी सिंह, चेतना कुंड, मीरा मिश्रा,सत्या मिश्र, रानी, दिव्या सिंह, सुनील वर्मा, अंगद प्रजापति, सीताराम वर्मा, सतीश मिश्र, राम आधार मोदनवाल, संदीप जायसवाल, नानबाबू मिश्र, कृष्णकुमार, शिव कुमार, बिजलेश्वरी कसेरा, अखिलेश तिवारी आदि लोग का विशेष योगदान रहा।

X

सर्कल बलरामपुर
अपने शहर का अपना ऐप

बलरामपुर, उतरौला, तुलसीपुर... की हर खबर, वीडियो और भी बहुत कुछ! 👉

बलरामपुर में 7000 से भी ज्यादा लोग हैं इस ऐप पर, आप भी इस सर्कल का हिस्सा बनें 👉

सर्कल ऐप
इंस्टॉल करें