गठबंधन प्रत्याशी पहुंचे इटोरा मैया के दरबार में, जीत के लिए की कामना

जो करौली दर्शन को जाता है वो इटौरा के दर्शन अवश्य करने आता है. आगरा ग्वालियर रोड स्थित गांव इटौरा में मां केला देवी का एक भव्य मंदिर बना हुआ है. यहां प्रतिवर्ष चैत्र मास में सप्तमी अष्टमी और नवमी को एक विशाल मेला लगता है . जिसमें दूर दराज से लोग मैया के दर्शन करने के लिए आते हैं . मैया के इतिहास के बारे में ग्रामीणों के अनुसार यह कलिंगा राजा की कुलदेवी थी. और राजा को देवी का वरदान था. कि राजा के सिवा कोई दूसरा राजा जब तक देवी मां की सेवा पूजा अर्चना नहीं करेगा तब तक उस पर कोई विजय नहीं पा सकता. राजा कलिंगा मानव का राजा था जो आजकल गांव कबूलपुर के नाम से जाना जाता है. राजा कलिंगा के साथ साथ यह आल्हा उदल की भी कुलदेवी रही है बताया जाता है के गांव इटौरा में बाढ़ गंगा बहती थी. जिसके किनारे अग्रवाल था जो आजकल इटौरा कहलाता है मेले में लाखों श्रद्धालु मैया के दर्शन को आते हैं

X
ऐप में पढ़ें