राष्ट्रीय महिला किसान दिवस पर हुई संगोष्ठी

This browser does not support the video element.

राष्ट्रीय महिला किसान दिवस के मौके पर केंद्रीय बकरी अनुसंधान संस्थान, मखदूम में संगोष्ठी आयोजित हुई. कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रुप मे बोलते हुए क्षेत्रीय प्रचार प्रमुख पदमजी ने कहा कि बेटी को जन्म देने के बाद चेहरे पर एक प्रसन्नता की अनुभूति होनी चाहिए न कि दुख की. महिला तो स्वयं जगत जननी है, हमारे देश की महिला कभी कमजोर नहीं रही. मातृशक्ति को अपने अस्तित्व को पहचानना होगा और अपने अधिकार समझने होंगे. उन्होंने कहा कि महिला सशक्तिकरण के लिए स्वयं ही महिलाओं को हिम्मत के साथ खड़ा होना चाहिये. धरती पर जब जब संकट आये हैं तो देवी का अवतार हुआ है. अपनी सोच अतीत को पहचानते हुए बदलनी होगी यही सशक्तिकरण का मंत्र है. इस मौके पर केंद्रीय बकरी अनुसंधान केंद्र के निदेशक डॉ. एमएस चौहान ने संगोष्ठी के विषय में जानकारी भी दी.

X

सर्कल मथुरा
अपने शहर का अपना ऐप

मथुरा, वृंदावन, छाता, महावन, मांट... की हर खबर, वीडियो और भी बहुत कुछ! 👉

मथुरा में 63000 से भी ज्यादा लोग हैं इस ऐप पर, आप भी इस सर्कल का हिस्सा बनें 👉

सर्कल ऐप
इंस्टॉल करें