वानर सेना ने किया रामसेतु का निर्माण, होगा राम रावण युद्ध

This browser does not support the video element.

नौहझील में चल रही 112वीं रामलीला के बारहवें दिन रामसेतु निर्माण की लीला का मंचन किया गया. रामलीला में हजारों की संख्या में दर्शक रामलीला का आनन्द लेते नजर आए. हनुमान द्वारा लंका में आग लगाने के बाद वापस लौटे हनुमान जी ने प्रभु श्री राम को माता जानकी की लंका की अशोक वाटिका में सुरक्षित होने की खबर देते हैं. भगवान राम, सीता जी की यादों में खो जाते हैं. तब जामवंत प्रभु राम को समुद्र पर पुल बनाने का प्रस्ताव रखते है और नल नील के माध्यम से रामसेतु का निर्माण शुरू होता है. हर पत्थर पर राम नाम लिख कर समुद्र में डालकर पुल का निर्माण किया जाता है. इस दौरान नन्ही गिलहरी भी भगवान राम के इस पुल निर्माण में सहायता करती है. वो मिट्टी भरकर पत्थरों के बीच में डालती है,जिसे देख राम प्रसन्न होते हैं. राम, गिलहरी को बड़े प्यार से सहलाते हैं, जिससे गिलहरी की कमर पर प्रभु राम की उंगली छप जाती हैं. रामसेतु का निर्माण पूर्ण कर राम वानर सेना सहित लंका की सीमा में पहुंचते हैं और रावण को युद्ध के लिए आमंत्रित करते हैं.

X

सर्कल मथुरा
अपने शहर का अपना ऐप

मथुरा, वृंदावन, छाता, महावन, मांट... की हर खबर, वीडियो और भी बहुत कुछ! 👉

मथुरा में 63000 से भी ज्यादा लोग हैं इस ऐप पर, आप भी इस सर्कल का हिस्सा बनें 👉

सर्कल ऐप
इंस्टॉल करें