नारकीय जीवन जीने को मजबूर ग्रामीण, सड़के दर्द से कराह रही है

This browser does not support the video element.

योगी सरकार भले गड्ढा मुक्त अभियान चला रही हो मगर जमीनी हकीकत कुछ और ही है. थाना शमसाबाद के गांव इसौली में ग्रामीण नारकीय जीवन जीने को मजबूर है. यहाँ पिछले कई सालों से सड़क नहीं बनी है. ग्रामीणों का कहना है कि ग्रामीण ऊंचे स्तर पर शिकायत कर चुके हैं मगर समस्या का कोई निवारण नहीं हुआ. स्थिति यह है कि सड़क तालाब बन चुकी है. सड़क की दुर्दशा खुद बयां कर रही है की क्या हालत है. सड़क दर्द से कराह रही हैं मगर विधायक, सांसद और ग्राम प्रधान का उस पर कोई ध्यान नहीं है. ऐसे में अगर बड़ी दुर्घटना हो जाती है तो आखिर कौन इसका जिम्मेदार होगा.

X

सर्कल आगरा
अपने शहर का अपना ऐप

फतेहाबाद, किरावली, खेरागढ़, एत्मादपुर... की हर खबर, वीडियो और भी बहुत कुछ! 👉

आगरा में 69000 से भी ज्यादा लोग हैं इस ऐप पर, आप भी इस सर्कल का हिस्सा बनें 👉

सर्कल ऐप
इंस्टॉल करें