ज्ञान का संवर्धन करना है तो करें कुण्डलिनी शक्ति विकासक क्रिया

कुण्डलिनी शक्ति विकासक क्रिया की विधि: सबसे पहले समावस्था में खड़े हो जायें. श्वास खींचते हुए पैर की एड़ी को उठायें. श्वास छोड़कर पैर को पूर्व स्थिति में लायें. पुन: श्वास खींचकर दूसरे पैर की एड़ी को उठायें. श्वास छोड़ते हुए उस पैर को पूर्व स्थिति में लायें. इस क्रिया को कम से कम 10 बार करें.

  • Related Post
X

सर्कल: लोकल न्यूज़ और वीडियो
अपने शहर का अपना ऐप

സർക്കിൾ: പ്രാദേശിക വാർത്തകളും വീഡിയോകളും

Circle: Local News & Videos

Install
App