चंबल नदी पुल के पास पहुंचा पानी, प्रशासन हुआ सतर्क

This browser does not support the video element.

हाड़ौती क्षेत्र में हो रही बारिश का असर धौलपुर जिले में देखने को मिल रहा है. कोटा बैराज से 16 गेट खोल पर चंबल नदी में छोड़े गए करीब दो लाख क्यूषेक पानी से धौलपुर जिले की चंबल नदी के तटवर्ती इलाकों में पानी पहुंचना शुरू हो गया है. जिसे लेकर प्रशासन ने अलर्ट जारी किया है. मौजूदा समय में चंबल नदी खतरे के निशान 129. 79 से 10 मीटर अधिक ऊपर बह रही है. पुराने चंबल पुल से पानी टकराने लगा है. जिसे लेकर जिला प्रशासन ने सतर्कता बढ़ा दी है. चंबल नदी में पानी की आवक होने से नदी के निचले इलाकों में जलभराव शुरू हो गया है. रिहायशी इलाकों में पानी भरने से जिला प्रशासन ने परिवारों को सुरक्षित निकालने की कवायद शुरू कर दी है. सरमथुरा उपखंड के करीब आधा दर्जन से अधिक गांव चंबल नदी के पानी की चपेट में आ चुके हैं. जिसे लेकर उपखंड प्रशासन ने गांव में डेरा डाल दिया है. गांव में पानी भरने से लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है. इलाके के झिरी शंकरपुर दुर्गशी लल्लू का पुरा पनापति रुंध पुरा भगत का पुरा जारोला खिल्ला दौड़ा आदि गांवों के रिहायशी आबादी में पानी भरना शुरू हो गया है. प्रशासन के अधिकारियों और कर्मचारियों ने गांवों में डेरा डालकर लोगों को सुरक्षित निकालने के प्रयास शुरू कर दिए हैं. झिरी गांव में करीब 25 परिवार पानी की चपेट में आ चुके हैं. जिन्हें प्रशासन सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा रहा है ।इसके अलावा धौलपुर के बसई नीम मोरोली और बिछिया गांव की आबादी में पानी पहुंचने की संभावना दिखाई दे रही है. राजाखेड़ा क्षेत्र के गांव दगरा बरसला गुनुपुर टीकतपुर समौना आदि गांवों की आबादी में पानी पहुंचने लगा है. वही चंबल नदी के तटवर्ती इलाकों में खरीफ फसल की सैकड़ों बीघा फसल बर्बाद हो चुकी है. फ़िलहाल चंबल नदी में पानी की आवक लगातार जारी है. जिला प्रशासन के इंतजाम बाढ़ आपदा से निपटने के लिए नाकाफी साबित हो रहे हैं।

  • Related Post
X

सर्कल धौलपुर
अपने शहर का अपना ऐप

धौलपुर, बसेड़ी, राजाखेड़ा, सैपऊ, बाड़ी... की हर खबर, वीडियो और भी बहुत कुछ! 👉

धौलपुर में 19000 से भी ज्यादा लोग हैं इस ऐप पर, आप भी इस सर्कल का हिस्सा बनें 👉

सर्कल ऐप
इंस्टॉल करें