दूसरा अशरा मगफिरत के लिए होता है खास

This browser does not support the video element.

रमजान के महीने में तीन अशरा होते हैं। जिसका पहला असरा गुरूवार शाम को खत्म हो रहा है और दूसरा अशरा शुरू हो रहा है. दूसरा अशरा मगफिरत के लिए खास होता है। इसमें तमाम रोजेदार मगफिरत के लिए दुआएं करते हैं। माना जाता है की तमाम रोजेदारों की दुआओं से करोड़ों रोजेदारों की मगफिरत फरमा दी जाती है। इसलिए दूसरा अशरा बहुत ही खास होता है। इसमें तमाम गुनाहगार लोग अपनी मगफिरत के लिए दुआएं मांगते हैं। और अल्लाह ताला इस महीने की बरकत से उनकी दुआओं को कबूल करते हुए मगफिरत फरमाते हैं। इस माह में रोजेदार अल्लाह के नजदीक आने की कोशिश के लिए भूख-प्यास समेत तमाम इच्छाओं को रोकता है। बदले में अल्लाह उस इबादत गुजार रोजेदार बंदे के बेहद करीब आकर उसे अपनी रहमतों और बरकतों से नवाजता है।

X

सर्कल हापुड़
अपने शहर का अपना ऐप

गढ़मुक्तेश्वर, धौलाना, हापुड़... की हर खबर, वीडियो और भी बहुत कुछ! 👉

हापुड़ में 5000 से भी ज्यादा लोग हैं इस ऐप पर, आप भी इस सर्कल का हिस्सा बनें 👉

सर्कल ऐप
इंस्टॉल करें