कहाँ मिली थी भगवान बुद्ध की भारत में पहली प्रतिमा

This browser does not support the video element.

बुद्ध पूर्णिमा पर आपके शहर के अपने एप सर्कल एप आपको बताने जा रहा कि आखिर भगवान बुद्ध की भारत में पहली प्रतिमा कहाँ मिली और वर्तमान में कहां स्थापित है . वैशे तो मथुरा को भगवान श्री कृष्ण की जन्मस्थली के रूप में जाना जाता है. लेकिन इसके साथ ही मथुरा आदि काल से मूर्तिकला और एवम विभिन्न धर्माचार्यों की तपोस्थली के रूप में भी अपनी पहचान रखता चला आ रहा है . मथुरा की मूर्तिकला की जो सबसे बड़ी विशेषता है वह यह है कि यहां की मूर्ति बलुआ लाल पत्थर से बनी हैं . पहले मूर्तिकला के लिए दो ही शैलियां प्रचलित थी पहली मथुरा मूर्तिकला और दूसरी गांधार मूर्ति कला .बुद्ध से जुड़ी पहली दो मूर्तियां इन्हीं दो शैली से निर्मित थीं . पहली बुद्ध की प्रतिमा इन दिनों मथुरा के राजकीय संग्रहालय में है . करीब 2000 वर्ष पूर्व नगर के कटरा केशव देव इलाके से मिली इस प्रतिमा की खासियत है कि इनके पैरों में धर्मचक्र,त्रिरज बना हुआ है जो कि महापुरुषों के पैरों में होते हैं . इसके साथ ही कंधे पर वस्त्र, मध्य मस्तक पर ज्ञान प्राप्ति का चिन्ह व पीछे सेवक चमर लिए खड़े हैं . कहा जाता है कि कनिष्क महाराज के समय बुद्ध, जैन और वैष्णव प्रतिमाओं का चलन चला था .तभी यह प्रतिमा बनी थीं .

X

सर्कल मथुरा
अपने शहर का अपना ऐप

मथुरा, वृंदावन, छाता, महावन, मांट... की हर खबर, वीडियो और भी बहुत कुछ! 👉

मथुरा में 63000 से भी ज्यादा लोग हैं इस ऐप पर, आप भी इस सर्कल का हिस्सा बनें 👉

सर्कल ऐप
इंस्टॉल करें