जन जन की आस्था, श्रद्धा और विश्वास का केंद्र- शक्तिपीठ खोखरी माता मंदिर

This browser does not support the video element.

प्राचीन काल से ही जिले के तिंवरी कस्बे को धार्मिक नगरी के रूप में पहचाना जाता है। यहां वर्षभर विभिन्न धार्मिक आयोजन होते ही रहते हैं। इसी कस्बे में माता का एक चमत्कारी मंदिर है। इस मंदिर का शिखर टेढ़ा है, जो कभी कोई सीधा नहीं कर पाया।कस्बे व आस-पास के लोगों में इस मंदिर को लेकर की गहरी आस्था है। इस मंदिर को लेकर कई आश्चर्यजनक बातें कही जाती हैं। इसके यहां स्थापित होने के पीछे भी एक कथा है, जो हैरान कर देने वाली है। तिंवरी के पास स्थित ये मंदिर है प्राचीन शक्तिपीठ खोखरी माता मंदिर। जितना विचित्र नाम है, उतनी ही विचित्र इस मंदिर की स्थापना की कहानी है।पुराने जमाने से ही सुनने में आ रहा है कि विक्रम संवत 709 में खोखरी माता का मन्दिर एक नदी में बहता हुआ आया। इस मंदिर का शिखर टेढ़ा था। ऐसा कहा जाता है कि तेज बारिश में नदी में बाढ़ आ गई थी और यह मंदिर बाढ़ के साथ-साथ बहता जा रहा था।इसी दौरान जंगल में गायें चराने वाला एक चरवाहा इधर-उधर भाग रही गायों को ठहर-ठहर, रुकजा-रुकजा की आवाजें दे रहा था। टेढ़े शिखर वाले मंदिर की मां ने सुना तो उन्हें लगा कि चरवाहा उन्हें ही आवाजें दे कर रोक रहा है। मां उसे भोला भक्त जानकर रुक गईं। रुकने से वे जिस मुद्रा में थीं, उस मुद्रा में मंदिर भी ठहर गया। तब से लेकर अब तक यह मन्दिर टेढ़ा ही है। श्रद्धालुओं ने इसके शिखर को ठीक करने की कई बार कोशिश की, लेकिन आज भी शिखर वैसा ही है जैसा पहले था। खोखरी माता बड़ी चमत्कारी देवी हैं। क्षेत्र में मां का बड़ा प्रभाव है। नवरात्रों के साथ साथ आम दिनों में भी दर्शनार्थियों का तांता लगा रहता है।सुविधाओं का हुआ विस्तारकस्बे के भामाशाहों और सरकारी प्रयासों से मन्दिर तक पहुंचने के लिए मुख्य सड़क से लिंक रोड बनी है। सड़क के दोनों तरफ रोड़ लाइटें हैं। नव निर्माण से मन्दिर परिसर को भव्य रूप दिया गया है। मां कमल के फूलों पर विराजमान हैं, जो साक्षात लक्ष्मी का रूप है। नवरात्र के दिनों में यहां प्रतिदिन हजारों श्रद्धालु धोक देने पंहुचते हैं। सर्किल ऐप के लिए तिंवरी से सत्येन्द्र सिंह राजपुरोहित की रिपोर्ट...

X

सर्कल जोधपुर
अपने शहर का अपना ऐप

ओसियां, तिंवरी, पीपाड़, फलोदी, बालेसर,... की हर खबर, वीडियो और भी बहुत कुछ! 👉

जोधपुर में 17000 से भी ज्यादा लोग हैं इस ऐप पर, आप भी इस सर्कल का हिस्सा बनें 👉

सर्कल ऐप
इंस्टॉल करें