डीएम के रवैए से नाराज़ मीटिंग से बाहर निकले खड्डा विधायक,सीएम से करेंगे शिकायत

This browser does not support the video element.

कुशीनगर जिलाधिकारी को भाजपा विधायक द्वारा मुसहरों की मौत का मामला बैठक में उठाना इतना नागवार लगा कि उन्होंने विधायक को भरी मीटिंग में नसीहत दे डाली।विधायक को नसीहत देते हुए जिलाधिकारी ने मुसहरों की मौत के मुद्दे को विधानसभा में उठाने की बात कही।हैरानी की बात यह है कि विधायक भारतीय जनता पार्टी से खड्डा के विधायक हैं बावजूद इसके जिलाधिकारी ने उनकी अनदेखी की,सत्ताधारी दल का होने और मुसहरों की मौत जैसा गंभीर मुद्दा उठाने के बाद डीएम का रिएक्शन समझ से परे है।पूरे जिले के अधिकारियों के सामने अपनी बेइज्जति होता देख भाजपा विधायक जटाशंकर त्रिपाठी को नागवार लगा।विधायक ने डीएम अनिल कुमार सिंह को शासन की योजनाओं की याद दिलाते हुए उनके सही क्रियान्वयन की बात कही लेकिन जिलाधिकारी विधायक की बातों को अनसुनी करते रहे।डीएम के इस रवैये से आहत भाजपा विधायक मीटिंग से निकल गये।विधायक जटाशंकर त्रिपाठी ने मुख्यमंत्री को पूरी घटना की जानकारी देने की बात कही है।बैठक में मौजूद हाटा से भाजपा विधायक पवन केडिया ने भी इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए डीएम की शिकायत करने की बात कही है।एक तरफ जहां भाजपा विधायक जिलाधिकारी आरोप लगा रहे हैं तो वही जिलाधिकारी राजनीतिक चाल चलते हुए इस घटनाक्रम को पार्टी की गुटबाजी बताने में लगे हुए हैं,गौरतलब है पिछले एक सप्ताह में 8 मुसहरों की मौत हुई है बावजूद इसके प्रशासन हाथ पर हाथ धरे बैठा है।इस पर विधायक ने सवाल उठाया तो डीएम साहब भड़क गये और सत्ताधारी दल के नेता को भी नहीं बख्सा। प्रदेश सरकार ने नौकरशाही को जनप्रतिनिधियों का सम्मान करने का निर्देश दिया है लेकिन अफसर आज भी बेलगाम हैं।कुशीनगर के जिलाधिकारी डा अनिल कुमार सिंह ने भरी मीटिंग में भाजपा विधायक जटाशंकर त्रिपाठी से जो व्यवहार किया है वह प्रदेश की नौकरशाही के बेलगाम होने का जीता जागता सुबूत है।जिलाधिकारी ने ऐसे मुद्दे पर विधायक को विधानसभा में उठाने की नसीहत दी है जिससे सीएम योगी आदित्यनाथ सीधे तौर पर जुड़े हैं।जिले में रहने वाली मुसहर जाति के लिए योगी आदित्यनाथ ने सड़क से लेकर सदन तक संघर्ष किया।सीएम बनने के बाद योगी आदित्यनाथ ने मुसहर जाति की दशा सुधारने के लिए अधिकारियों को सख्त निर्देश दिया लेकिन जिले के अफसर इस मुद्दे पर आज भी लापरवाह बने हुए हैं...पिछले 15 दिनों में 8 मुसहर की मौत हो गयी है बावजूद इसी मुद्दे को खड्डा से भाजपा विधायक जटाशंकर त्रिपाठी ने सभी अधिकारियों के सामने उठाया डीएम साहब की भौंहे तन गई।उन्होंने मीटिंग में मुसहरों की मौत के मुद्दे को ना उठाने की नसीहत दे दी।इतना ही नहीं डीएम साहब ने विधायक के अधिकारों का हनन करते हुए विधानसभा में इस मुद्दे को उठाने की सलाह दे दी।भरी मीटिंग में अपनी बेइज्जति होता देख विधायक खुद बाहर निकल गये। एक तरफ जहां भाजपा विधायक डीएम पर आरोप लगा रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर जिलाधिकारी पूरे मामले पर राजनीतिक खेल खेलने में लगे हैं।जिलाधिकारी पूरे मामले को सांसद बनाम विधायक बनाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं।उन्होने साफ - साफ कहा कि विधायक से ऐसी कोई बात नहीं हुई है यह उनकी पार्टी का अंदरूनी मामला है।

X

सर्कल कुशीनगर
अपने शहर का अपना ऐप

कप्तानगंज, कसया, खड्डा, तमकुहीराज, पडरौना… की हर खबर, वीडियो और भी बहुत कुछ! 👉

कुशीनगर में 10000 से भी ज्यादा लोग हैं इस ऐप पर, आप भी इस सर्कल का हिस्सा बनें 👉

सर्कल ऐप
इंस्टॉल करें