संघर्ष की ज्योति से सींचा सपनों का बागवा फादर्स डे पर सर्कल ऐप की खास पेशकश

आज रविवार को फादर्स डे है .यह वह अवसर है ,जब संताने अपने पिता के एहसानों के लिए कृतज्ञता प्रकट करती है. तो वही अपनी संतानों का जीवन संवारने में पिता ओं ने बड़ी कुर्बानियां दी है आगरा ग्वालियर रोड स्थित गांव इटोरा निवासी राजेंद्र सिंह ने पिता का कर्तव्य निभा कर पुत्र को कामयाब बनाया है. राजेंद्र सिंह ने बताया है कि उनकी खेती के अलावा और कोई आए का श्रोत नहीं था. बेटे को पढ़ाने के लिए कृषि कार्ड से लोन लिया और बेटे को जयपुर में पढ़ाया. जिसके परिणाम स्वरूप ज्ञानेंद्र सिंह पुलिस में भर्ती हो गए. भर्ती होने के बाद भी ज्ञानेंद्र में कुछ और अच्छा करने की ललक रही. वह प्रयास करते रहे और आज यूपी पुलिस में एसआई के रूप पद पर कार्यरत है.

X

सर्कल आगरा
अपने शहर का अपना ऐप

फतेहाबाद, किरावली, खेरागढ़, एत्मादपुर... की हर खबर, वीडियो और भी बहुत कुछ! 👉

आगरा में 69000 से भी ज्यादा लोग हैं इस ऐप पर, आप भी इस सर्कल का हिस्सा बनें 👉

सर्कल ऐप
इंस्टॉल करें