मानसून की पहली बारिश, किसानो के चेहरे खिले

This browser does not support the video element.

किशगंज क्षैत्र सहीत जिले मे आखिरकार बादलों की लुकाछुपी खत्‍म हो ही गई। कई दिनों का इंतजार का फल मिल गया और मौसम की पहली बारिश ने सूखती जा रही वसुंधरा का कंठ फिर से भर दिया। मंगलवार को तेज धूप के बाद उम्‍मीद कम ही लग रही थी कि बादल अचानक छाएंगे और बरसेंगे। दोपहर डेढ़ बजे करीब अचानक काले बादलों ने कड़ी धूप के तेवर कम कर दिए और गरज के साथ बादलो का माहौल तैयार होने लगा | बुधवार को सुबह से ही बारिश का दौर चालू हो गया | सवेरे से ही हल्‍की बूंदाबांदी ने लोगो को राहत दी थी। धार्मिक नगरी रामगढ गांव के मुख्य मार्ग पर कीचड़ है और सड़कों पर मवेशियों का जमावड़ा होने से लोगों को आवाजाही मेंं खासी दिक्कत होती है। महेश शर्मा का कहना है कि बारिश में यहां बदतर हालत हो जाती है। गलियों में कीचड़ हो जाता है। लोगो ने बताया रामगढ क्षैत्र जिले का पर्यटन क्षैत्र है जहा पर हर बारिश मे हजारो की तादाद मे पर्यटक आते है |

X

सर्कल बारां
अपने शहर का अपना ऐप

छीपाबड़ौद, किशनगंज, अटरू, छबड़ा, शाहाबाद... की हर खबर, वीडियो और भी बहुत कुछ! 👉

बारां में 7000 से भी ज्यादा लोग हैं इस ऐप पर, आप भी इस सर्कल का हिस्सा बनें 👉

सर्कल ऐप
इंस्टॉल करें