जिम्मेदारों की लापरवाही, रात्रि 10:00 बजे तक खुला पड़ा रहा बैंक

This browser does not support the video element.

बैंक कर्मचारियों की लापरवाही के कारण रात्रि 10:00 बजे तक बैंक के दरवाजे खुले पड़े रहे। जबकि बैंक के सभी कर्मचारी ड्यूटी से अपने घर लौट गए। आसपास के लोगों ने बैंक खुले पड़े होने की सूचना पुलिस को दी। तो पुलिस में हड़कंप मच गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने देर रात्रि बैंक को बंद कराया। पुलिस मौके पर ना पहुंचती तो रात्रि में ही बैंक के अंदर हो सकती थी लूट की बड़ी घटना। जनपद शामली के थानाभवन दिल्ली सहारनपुर हाईवे मार्ग पर स्थित ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स की शाखा में देर रात्रि पास के ही लोगों ने पुलिस को सूचना दी कि बैंक का दरवाजा खुला पड़ा है। जबकि बैंक के अंदर कोई भी कर्मचारी मौजूद नहीं है। आनन-फानन में पुलिस मौके पर पहुंची और बैंक के अंदर घुसकर नजारा देखा तो नजारा काफी चौंकाने वाला था। क्योंकि बैंक के अंदर एक भी कर्मचारी मौजूद नहीं था। जबकि बैंक के सभी दरवाजे तो खुले पड़े थे। पुलिस ने इसकी सूचना तुरंत बैंक के कर्मचारियों को दी। घंटों बाद भी बैंक का कोई कर्मचारी बैंक पर नहीं पहुंचा। घंटे भर बाद बैंक के असिस्टेंट मैनेजर योगेश कुमार ने बैंक में पहुंचकर बैंक के चपरासी से बैंक खुले होने की जानकारी मांगी तब काफी देर बाद बैंक का चपरासी बैंक पर पहुंचा और भूलवश बैंक को खुला छोड़ जाने की बात कही। बैंक में लापरवाही का आलम इस कदर है कि जब सूचना पर पहुंचे हंड्रेड डायल पुलिसकर्मी ने बैंक के मैनेजर को फोन लगाया तो उन्होंने फोन रिसीव तक नहीं किया वही सूचना के घंटों बाद मौके पर पहुंचे बैंक के चपरासी रामनिवास का कहना है कि वह जनरेटर बंद करने गए थे। उसके बाद बैंक का दरवाजा बंद करना उनके ध्यान नहीं रहा। उनसे ही थोड़ी सी लापरवाही हो गई। बैंक असिस्टेंट मैनेजर योगेश कुमार ने बताया कि उनको तो बैंक खुला होने की सूचना मिली थी। उसके बाद वे बैंक पर पहुंचे हैं। जबकि बैंक बंद करने की पूरी जिम्मेदारी बैंक के चपरासी पर है। आखिर इतनी बड़ी लापरवाही का जिम्मेदार कौन है ? बैंक का चपरासी या बैंक का मैनेजर। अगर जनता के खून पसीने की गाढ़ी कमाई पर कोई बदमाश रात्रि के समय हाथ साफ कर जाता तो अखिर जिम्मेदारी किसकी होती। जबकि बैंक के दरवाजे से लेकर स्ट्रांग रूम तक सभी दरवाजे खुले पड़े थे।

X

सर्कल शामली
अपने शहर का अपना ऐप

शामली, कैराना, उन... की हर खबर, वीडियो और भी बहुत कुछ! 👉

शामली में 7000 से भी ज्यादा लोग हैं इस ऐप पर, आप भी इस सर्कल का हिस्सा बनें 👉

सर्कल ऐप
इंस्टॉल करें