प्लास्टिक क्राकरी से पर्यावरण हो रहा प्रभावित: डीएम

डीएम अखिलेश सिंह ने बताया कि सरकार द्वारा प्रदेश में पॉलिथीन/प्लास्टिक क्रॉकरी के प्रयोग से पर्यावरण एवं मानव जीवन को हो नुकसान के कृष्टिगत इसको प्रतिबन्धित कर दिया गया है। सरकारी कार्यालय में पॉलिथीन/प्लास्टिक क्रॉकरी का प्रयोग नहीं किया जाएगा। उन्होंने अधिकारियों को कार्यालय में पॉलिथीन/प्लास्टिक क्रॉकरी मुक्त का बोर्ड जिस पर नियमों का भी उल्लेख हो ऐसे बोर्ड लगवाने के निर्देश दिए। यदि आपके कार्यालय में किसी कर्मचारी/अधिकारी द्वारा पॉलिथीन/प्लास्टिक से बने कप/गिलास/कैरी बैग्स के प्रयोग की सूचना मिले तो संबंधित के विरूद्ध निम्न नियमों के अन्तर्गत कार्यवाही करने के निर्देश दिए। डीएम अखिलेश सिंह ने कहा कि नियम-१ नगर विकास विभाग की अधिसूचना दिनांक १५ जुलाई २०१९ के अनुसार-१०० ग्राम तक एक हजार रुपये, १०१ ग्राम से ५०० ग्राम तक दो हजार रुपये, ५०१ ग्राम से एक किलोग्राम तक पांच हजार रुपये, एक किलोग्राम से अधिक २५ हजार रुपये जुर्माना। उन्होंने बताया कि किसी संस्था द्वारा परिसरों के अन्तर्गत और सड़कों, मार्गों, नालों, नदियों, झीलों, तालाबों, वन क्षेत्रों, सार्वजनिक पार्कों, समस्त सार्वजनिक स्थलों आदि पर प्लास्टिक अपशिष्ट का फेंके जाने पर २५,००० रुपये जुर्माना। किसी व्यक्ति द्वारा परिसरों के अन्तर्गत और सड़कों, मार्गों, नालों, नदियों, झीलों, तालाबों, वन क्षेत्रों, सार्वजनिक पार्कों, समस्त सार्वजनिक स्थलों आदि पर प्लास्टिक अपशिष्ट का फेंके जाने पर एक हजार रुपये जुर्माना।जिलाधिकरी ने बताया कि नियम-२ नगर विकास विभाग की अधिसूचना १० अक्टूबर २०१९ के अनुसार-उपयोग करने या उपयोग करने हेतु दुष्प्रेरित करने के दोषसिद्धि पर एक माह तक का कारावास या एक हजार रुपये १० हजार रुपये तक जुर्माना हो सकता है। विनिर्माण, विक्रय, वितरण, भंडारण, परिवहन, आयात या निर्यात करना या ऐसा करने के लिए दुष्प्रेरित करने के लिए प्रथम दोषसिद्धि पर छह माह तक का कारावास या १० हजार रुपये तक का जुर्माना, द्वितीय या अनुवर्ती दोषसिद्धि की स्थिति में एक वर्ष तक का कारावास या २० हजार तक का जुर्माने का प्रावधान है। उन्होंने बताया कि धारा-३ या धारा ३-क के उल्लंघन पर प्रथम दोषसिद्धि के लिए १ हजार से २५ हजार रुपये तक जुर्माना, द्वितीय या अनुवर्ती दोषसिद्धि पर एक माह तक का कारावास अथवा ५ हजार से ५० हजार रुपये तक का जुर्माना। (जल निकासी/सीवेरेज लाईन में कूड़ा फेंकने से क्षति पहुंचने या बाधा पडऩे पर, सार्वजनिक स्थल पर फेंकने से खतरनाक होने या उपताप करने या जन-स्वास्थ्य के लिए हानिकार होने पर, निकाय द्वारा कूड़े के लिए निर्धारित की गई विहित प्रक्रिया का उल्लंघन किये जाने पर कठोर कार्यवाही की जाएगी।

X

सर्कल शामली
अपने शहर का अपना ऐप

शामली, कैराना, उन... की हर खबर, वीडियो और भी बहुत कुछ! 👉

शामली में 7000 से भी ज्यादा लोग हैं इस ऐप पर, आप भी इस सर्कल का हिस्सा बनें 👉

सर्कल ऐप
इंस्टॉल करें