तिरंगा लेकर सड़क पर उतरे युवक ने प्रधानमंत्री से शहीदों को लेकर कर दी यह मांग जानिए

This browser does not support the video element.

सरहद पर शहीद होने वाले जवानों को श्रद्धांजलि देने के लिए एक युवक ने देशभक्ति का जुनून इस तरह दिखाया कि अपने कमर पर जम्मू कश्मीर के पुलवामा में शहीद हुए जवानों के नाम के बाद अब अनंतनाग में हुए आतंकी हमले में मारे गए पांच शहीद जवानों के नाम भी अपनी पीठ पर गुदवा दिए है। युवक का कहना है कि देश भक्ति का जजबा बचपन से ही रग-रग में भरा हुआ है। युवक ने प्रधानमंत्री पर आतंकियों के खिलाफ कोई कार्यवाही न करने तथा एयर स्ट्राईक के नाम पर देश के लोगों को गुमराह कर वोट बटौरने का आरोप लगाते हुए शहीदों की शहादत का बदला लिए जाने की मांग की है। मूलरूप से शामली जिले के भारसी गांव के रहने वाले विजय राष्ट्रवादी गुरूवार को शामली के शिव चौक पर पहुंचा। जहां उसने तिरंगा लहराते हुए हिन्दुस्तान जिंदाबाद के जमकर नारे लगाये। यह वही विजय राष्ट्रवादी है जो पुलवामा में शहीद हुए जवानों के नाम अपने शरीर पर गुदवा चुके है। उसने पुलवामा में आतंकी हमले में शहीद हुए 42 जवानों के नाम अपनी पीठ पर गुदवा दिए थे और शहीदों को श्रद्धांजलि दी थी। कुछ दिन पूर्व कश्मीर के जम्मू के अनंतनाग में हुए आतंकी हमले में मारे गए पांच सुरक्षा बलों के नाम भी उसने अपनी पीठ पर गुदवा दिए है। विजय ने बताया कि उसकी रग रग में देश प्रेम भरा हुआ है। उसका बड़ा भाई विक्की पंवार फौजी है। उसने अपने भाई से देश प्रेम सीखा है। पुलवामा और अनंतनाग में आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों की शहादत को नमन करता हूं। सरकार शहीदों को इंसाफ नहीं दे रही है। नेता राजनीति कर रहे है। शहीद जवानों को अभी तक शहीदों का दर्जा तक नहीं दिया है। पीडि़त परिवारों को न तो धनराशि दी गई और न ही उनके जख्मों पर मरहम लगाने प्रधानमंत्री या मुख्यमंत्री पहुंचे। उन्होने कहा कि मोदी सरकार शहीदों की शहादत पर राजनीति करने का काम कर रही है। एयर स्ट्राईक का दावा करने वाली मोदी सरकार न तो उसके सबूत दे सकी और नही कोई पाकिस्तान में ऐसा हमला हुआ है। युवक ने एयर स्ट्राईक के सबूत मांगते हुए शहीदों की शहादत का बदला लेने की मांग की है।

X

सर्कल शामली
अपने शहर का अपना ऐप

शामली, कैराना, उन... की हर खबर, वीडियो और भी बहुत कुछ! 👉

शामली में 7000 से भी ज्यादा लोग हैं इस ऐप पर, आप भी इस सर्कल का हिस्सा बनें 👉

सर्कल ऐप
इंस्टॉल करें