ज़ुबाँ, ज़ायक़ा : तड़के के लिए जहां से आती है हींग, लजीज है वहां का ज़ायक़ा

This browser does not support the video element.

खाने का स्वाद तभी बढ़ता है, जब उसमें तड़का पड़ता है और तड़का अगर हींग का न हो तो खाने में कुछ अधूरापन लगता है. लेकिन क्या कभी आपने सोचा है कि आपके किचन को महकाने वाली और खाने को लजीज बनाने वाली ये हींग आती कहां से है? तो बता दें कि हींग के उद्योग और इसके काम के लिए सबसे ज्यादा प्रसिद्ध जगह हाथरस है. हाथरस ही वो जगह है जहां हींग का काम बड़े स्तर पर होता है. ऐसी जगह जिसकी पहचान कहीं न कहीं ज़ायक़े से जुड़ी हुई है उसका ज़ायक़ा भी खुद में काफी खास होगा। सर्कल ऐप की ख़ास पेशकश ज़ुबाँ, ज़ायक़ा के इस अंक में हम आपको उसी शहर के ज़ायक़े के सफर पर ले चलेंगे। तो आइए चलते हैं इस लजीज सफर पर और लेते हैं हाथरस के ज़ायक़े का मजा। इस सफर की शुरुआत करेंगे हम सुबह के नाश्ते के साथ... और सुबह के नाश्ते में हम चखेंगे खस्ता-कचौड़ी और आलू की सब्जी, जिसके लिए हमे रुख करना करना होगा आगरा रोड पर स्थित पंडित कचौड़ी वाले की दुकान की ओर आइए चलते हैं.....

X
ऐप में पढ़ें