यमुना का जलस्तर खतरे के निशान से 1 मीटर ऊपर, किसानों की फसल जलमग्न

This browser does not support the video element.

पहाड़ी क्षेत्रों में हो रही लगातार बारिश के बाद हथिनी कुंड बैराज पर पानी का दबाव बढ़ गया था। वहीं हथिनी कुंड बैराज से 2 दिनों से लगातार पानी डिस्चार्ज किया जा रहा है। जिसके तहत कैराना यमुना उफान पर पहुंच चुकी है। यमुना सोमवार की शाम 5 बजे 232 मीटर पर बहती नजर आई। वहीं यमुना में शिवालिक पहाड़ियों की लकड़ियां भी पानी में बहकर आ रहीं हैं। कैराना यमुना का जलस्तर बढ़ने के बाद प्रशासन ने अलर्ट जारी करते हुए आसपास के ग्रामीणों को यमुना से दूर रहने की चेतावनी भी दे रखी है। इसके अलावा यमुना का पानी यमुना किनारे किसानों की फसलों में घुस गया। जिससे किसानों की हजारों बीघा फसल जलमग्न हो गई है। किसानों का कहना हैं कि उन्होंने ईख, जीरी, ज्वार, गोभी, मिर्च आदि की फसल उगा रखी है। जिनमें अब पानी भर गया है और उन्हें लाखों रुपए का नुकसान हो चुका है। वहीं कैराना ब्लाक के गांव मामोर के ग्रामीणों ने बताया कि यमुना से सटे उनके खेतों के पास पानी उनके खेतों में घुस रहा था। जिसके लिए उन्होंने खुद ही फावड़ो एवं अन्य उपकरणों से मिट्टी का बंधा बनाया है। लेकिन यमुना में पानी लगातार बढ़ रहा है, जिससे रात में उनकी फसल भी जलमग्न हो जाएगी। यमुना का जलस्तर लगातार बढ़ने से किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें नजर आ रही है।

X

सर्कल शामली
अपने शहर का अपना ऐप

शामली, कैराना, उन... की हर खबर, वीडियो और भी बहुत कुछ! 👉

शामली में 7000 से भी ज्यादा लोग हैं इस ऐप पर, आप भी इस सर्कल का हिस्सा बनें 👉

सर्कल ऐप
इंस्टॉल करें