प्रयागराज में बाढ़ की दस्तक,निचले इलाकों में बाढ़ का कहर, लोग हुए बेघर

This browser does not support the video element.

संगम नगरी प्रयागराज में गंगा और यमुना में पिछले दो दिनों से हो रही बढ़ोत्तरी के बाद गंगा का पानी लेटे हुए हनुमान जी के मंदिर प्रवेश कर गया और माँ गंगा ने हनुमान जी को नहला दिया। संगम किनारे स्थित पौराणिक महत्व के इस मंदिर में हनुमान जी की मूर्ति के साथ ही समूचा मंदिर परिसर ही गंगा की गंगा के पानी में डूब गया है।मान्यताओं के मुताबिक़ जिस साल गंगा का पानी मंदिर में हनुमान जी की मूर्ति तक पहुंचता है, उस साल प्रयागराज में कोई प्राकृतिक आपदा नहीं आती और हर तरफ शान्ति रहती है। पौराणिक महत्व वाला यह दुनिया का इकलौता ऐसा मंदिर है जहां हनुमान जी लेटे हुए हैं और इसी मुद्रा में अपने भक्तो को दर्शन देते हैं।उधर जलस्तर में बढ़ोतरी होने के चलते निचले इलाकों में बाढ़ आ गई है और लोग काफी परेशान है। आमतौर पर लोग बाढ़ के पानी का नाम सुनते ही कांपने लगते हैं।बाढ़ की तबाही के मंज़र के बारे में सोचकर ही सिहर उठते हैं,लेकिन संगम नगरी प्रयागराज में ऐसा नहीं होता।यहाँ के लोगों को हर साल गंगा में इतनी बाढ़ का बेसब्री से इंतज़ार रहता है जिसमे संगम किनारे बाँध स्थित पौराणिक मान्यताओं वाला दुनिया का इकालुता लेटे हुए हनुमान जी का मंदिर गंगा की इस बाढ़ में समा जाए।इस के लिए हर साल संगम पर लोग यज्ञ, पूजा-अर्चना के ज़रिये गंगा जी से हनुमान मंदिर तक जाने की प्रार्थना करते थे | दूसरी तरफ जलस्तर में लगातार वृद्धि के चलते गंगा जमुना ने विकराल रूप धारण कर लिया है संगम समेत कई तटवर्ती इलाके बाढ़ की चपेट में आ गए हैं बेनी बांध के नीचे पूरा संगम क्षेत्र जलमग्न हो गया है।ग्रहस्थी बचाने की जद्दोजहद में संगम समेत अन्य तटीय इलाकों से देर रात तक हजारों लोगों को घर छोड़ना पड़ा। बड़ी संख्या में लोगों ने छतों पर सामान शिफ्ट किया तो अनाज कपड़े व अन्य सामान लेकर लोग दिनभर रिश्तेदारों के यहां पहुचाते रहे ।नाग वासुकी व दशाश्वमेध मंदिर के आसपास सैकड़ों झोपड़ियों के पास पानी आने से वहां के लोगों में हलचल मच गई और लोग परेशान दिखे पीड़ित लोगों का कहना है कि सरकार अब उनकी मदद करें क्योंकि कई सम्मान डूब गए हैं तो कुछ सामान सुरक्षित बचा लिया है अचानक आए इस पानी से जबतक कोई भी कुछ समझ पाता कि तब तक बाढ़ ने विकराल रूप धारण कर लिया था हालांकि अब बताया जा रहा है कि आने वाले दिनों में जलेसर में बढ़ोतरी होगी।

X

सर्कल प्रयागराज
अपने शहर का अपना ऐप

करछना, कोरांव, फूलपुर, सोरांव, हंडिया... की हर खबर, वीडियो और भी बहुत कुछ! 👉

प्रयागराज में 9000 से भी ज्यादा लोग हैं इस ऐप पर, आप भी इस सर्कल का हिस्सा बनें 👉

सर्कल ऐप
इंस्टॉल करें