गंगा और यमुना में तेजी से बढ़ रहे जलस्तर से बाढ़ का खतरा बढ़ा

This browser does not support the video element.

गंगा और यमुना में तेजी से बढ़ रहे जलस्तर से अब बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। बांधों और बैराजों से छोड़े गए पानी का असर प्रयागराज में पूरी तरह दिखने लगा हैं।गंगा और यमुना नदियों में तेजी से बढ़ रहे जलस्तर को लेकर निचले इलाकों में अलर्ट घोषित कर दिया गया है। जिला प्रशासन ने नदियों के किनारे बसे गांवों व शहरों के मोहल्लों में मुनादी भी करा दिया है। यमुना का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है।संगम के पास रामघाट जहां गंगा आरती कराई जाती है, वह डूब गया। यही नहीं बांध होते हुए त्रिवेणी मार्ग व महावीर मार्ग के इंटरलॉकिंग वाली सड़क तक पानी पहुंच गया।उत्तराखंड स्थित टिहरी बांध, नरौरा बांध तथा हरिद्वार व कानपुर बैराजों से पानी छोड़े जाने से गंगा में भी बाढ़ का असर दिखने लगा है। दूसरी ओर यमुना में तेजी के कारण गंगा का पानी अपने आप संगम के ऊपर ठहर सा जाता है, ऐसे में गंगा किनारे के गांवों और शहर के मोहल्लों में हलचल बढ़ गई है। यमुना किनारे महेवा, मोहब्बतगंज, मड़ौका, मड़कैनी, बसवार, पालपुर, लालापुर समेत 19 गांवों में बाढ़ का पानी आ गया है। इन गांवों का कछारी इलाका पहले ही डूब चुका है। शहरी क्षेत्र में यमुना किनारे बक्शी मोढ़ा, करैलाबाग, मीरापुर, सदियापुर समेत एक दर्जन मोहल्लों में बाढ़ का पानी पास में पहुंच जाने से लोगों में हलचल बढ़ गई है। लोग अपने सामान समेटने लगे हैं। इसी तरह संगम समेत विभिन्न घाटों पर तीर्थ पुरोहित भी दिन भर अपने सामान समेटकर सुरक्षित स्थानों की ओर जा रहे है।

X

सर्कल प्रयागराज
अपने शहर का अपना ऐप

करछना, कोरांव, फूलपुर, सोरांव, हंडिया... की हर खबर, वीडियो और भी बहुत कुछ! 👉

प्रयागराज में 9000 से भी ज्यादा लोग हैं इस ऐप पर, आप भी इस सर्कल का हिस्सा बनें 👉

सर्कल ऐप
इंस्टॉल करें