तीन तलाक कानून बनने के बाद मुस्लिम समाज की लापरवाही आई सामने

This browser does not support the video element.

तीन तलाक पर कानून बन जाने के बाद भी मुस्लिम समुदाय में तीन तलाक को लेकर मुस्लिम लोग बेपरवाह हैं। अयोध्या में एक मुस्लिम महिला ने बेटी को जन्म दिया तो उसके पति ने तीन तलाक दे दिया।यही नहीं 20 दिन की बेटी लेकर अब पीड़िता अपने मायके में रह रही है। काफी मशक्कत के बाद पीड़िता की तहरीर पर पति समेत छह के खिलाफ घरेलू उत्पीड़न व दहेज प्रथा का मुकदमा दर्ज हुआ है। जनपद का यह पहला मुकदमा है जो हैदरगंज थाने में तीन तलाक के मामले में दर्ज किया गया है। मामला हैदरगंज थाने के जाना बाजार का है जहां की निवासी जाफरी अंजुम का निकाह थाना महाराजगंज के बाकरगंज निवासी इफ्तिखार से हुआ था।कुछ दिन तो दहेज के लिए पीड़िता को परेशान किया गया इसके बाद जब पीड़िता ने बेटी को जन्म दिया तो ससुराल वाले और खफा हो गए। 20 दिन की बेटी व उसकी मां को घर से निकाल दिया।पति ने तीन तलाक देते हुए पीड़िता आफरीन अंजुम को मारपीट कर घर से भगा दिया। पति से उत्पीड़ित पत्नी थाना हैदरगंज पहुंची जहां पर पहले पुलिस ने थाना महाराजगंज जाने की सलाह दी लेकिन एसएसपी के आदेश पर हैदरगंज थाने में ही मुकदमा दर्ज कर लिया गया।पुलिस ने पति सास ससुर ननद समेत छह के खिलाफ दहेज प्रथा घरेलू हिंसा के तहत मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।तीन तलाक का यह पहला मुकदमा है जो अयोध्या जनपद के हैदरगंज थाने में लिखा गया है।

X

सर्कल अयोध्या
अपने शहर का अपना ऐप

बीकापुर, मिल्कीपुर, रूदौली, सोहावल… की हर खबर, वीडियो और भी बहुत कुछ! 👉

अयोध्या में 11000 से भी ज्यादा लोग हैं इस ऐप पर, आप भी इस सर्कल का हिस्सा बनें 👉

सर्कल ऐप
इंस्टॉल करें