गुरमीत सिंह

मेरी खबर की सार्थकता तब तक नहीं है जब तक खबर चलने के बाद पीड़ित को न्याय न मिले

X
ऐप इंस्टॉल करें