दिलीप कुमार

कितना ही क्यों रोका जाए मैं अपना मन लिखता हूं अपनी कलम को लपट बनाकर इक आंदोलन लिखता हूं.......

X
ऐप इंस्टॉल करें