जुल्फिकार अहमद मंसूरी

हथियार तो बहुत से हैं मगर कलम सी तलवार नहीं क्रांतिकारी परिवर्तन लाएं पत्रकारों की शान यही

X
ऐप इंस्टॉल करें