राम कृपाल गिरी

लफ्ज़ो की बनावट तो खूब आती है तुम्हे, कमाल तो जब हो, जब हमारी ख़ामोशी को पढ़ ले ।

X
ऐप इंस्टॉल करें