जीशान अख्त़र

"एक डरा हुआ पत्रकार लोकतंत्र में मरा हुआ नागरिक पैदा करता है।"

X
ऐप इंस्टॉल करें