बृजबिहारी त्रिपाठी

अपनी तकदीर को गर्दिश के हवाले कर, तेरी तकदीर बनाने की कसम खाई है।

X
ऐप इंस्टॉल करें