ऋषीकान्त दुबे

वो लूट रहें हैं सपनों को, मैं चैन से कैसे सो जाऊं, वो बेंच रहें भारत को, ख़ामोश मैं कैसे हो जाऊं ...

X
ऐप इंस्टॉल करें